गीताधर्म और मार्क्सवाद

स्वामी सहजानन्द सरस्वती लिखित भगवद गीता का हिंदी में सार मार्क्स का साम्यवाद भौतिक होने के कारण हलके दर्जे का है, तुच्छ है गीता के आध्यात्मिक साम्यवाद के मुकाबिले में। वह तो यह भी कहते हैं कि हमारा देश धर्मप्रधान एवं धर्मप्राण होने के कारण भौतिक साम्यवाद के निकट भी न जाएगा। यह तो आध्यात्मिक साम्यवाद को ही पसंद करेगा।

स्वामी सहजानन्द सरस्वतीस्वामी सहजानन्द सरस्वती
Please join our telegram group for more such stories and updates.telegram channel

Books related to गीताधर्म और मार्क्सवाद


जगातील अद्भूत रहस्ये
गांवाकडच्या गोष्टी
कल्पनारम्य कथा भाग २
स्मृतिचित्रे
भूते पकडणारा  तात्या नाव्ही
वैचारिक मुक्ती
दीपावली
तुम्हाला तुमची स्वतःची ओळख करुन घ्यायचीय का?
वास्तूशास्त्र
छोटे बच्चों  के लिए -अस्सी घाट की कविताएँ
सुभाषित माला
महाभारत सत्य की मिथ्य?
इच्छापूर्ती शाबरी मंत्र
पारसमणी
भारतीय पारंपरिक खेल