Hinduism
Religious books from Hinduism. Has extensive collection of saint literature, mythology and mantras.
सापळा
Featured

अघोरी तांत्रिक लोकांचे जग नेहमीच अगम्य राहिले आहे. त्यामुळेच त्यांच्यातील एक जण तुम्हाला कधी गर्तेत ओढून नेईल हे देखील सांगणे कठीण आहे. प्रामाणिक व्यक्ती ओळखणे आज अवघड झाले आहे. विश्वास ठेवण्याआधी १०० वेळा विचार करा. तो एखादा सापळा असू शकतो. सदर कथा हि संपूर्णपणे काल्पनिक आहे. हिचा वास्तवाशी काही एक संबंध नाही. केवळ मनोरंजन या हेतूनेच या कथेचे वाचन करावे. आम्ही कोणत्याही प्रकारच्या अंधश्रद्धेला खतपाणी घालत नाही. कथेतील ठिकाणे, पात्र, यांची नावे यात काही साधर्म्य आढळले तर तो निव्वळ योगायोग समजावा आणि एक मनोरंजक कलाकृती म्हणून या कथेचा रसास्वाद घ्यावा. लहान मुलांनी किंवा मृदू आणि हळव्या मनाच्या व्यक्तींनी हि कथा वाचणे योग्य ठरणार नाही.

ஏட்டில் இல்லாத மகாபாரதக் கதைகள்
Featured

மகாபாரதக் கதைகளை ஏட்டில் படித்தவர்கள் பலர். ஆனால் அக்கதைகளை ஏட்டில் படிக்காதவர்களிடையே பல வேறுபட்ட கதைகள் வழக்கில் உள்ளன. அவை ஏட்டில் இடம்பெறாத நாட்டுப்புறக் கதைகள். செவிவழிக் கதைகளாக வழங்கப்பெறும் அக்கதைகள் மூலம் பல அறநெறிகள் கற்பிக்கப்படுகின்றன. மனிதர்களின் மனங்களைப் பக்குவப்படுத்துவதற்காகவே கதைகள் பிறந்தன. அவை ஏட்டு வடிவக் கதைகளாக இருந்தாலும் செவிவழிக் கதைகளாக இருந்தாலும் நன்மை பயப்பவைகளே தவிர தீமை விளைவிப்பன அல்ல.

गणेश स्थापना पूजा विधी

चतुर्थीला गणेश स्थापना करायची असेल तर इथे सर्व पूजा विधी उपलब्ध आहे.

सार्थ श्रीसत्यनारायण पूजा कथा

Satyanarayan is a very popular vrata and this vrat katha is always told during the katha. It is considered holy to listen to this story.

संतांच्या जीवनातील प्रेरक प्रसंग -भाग दुसरा
Featured

जीवनाचा मार्ग सुकर करणाऱ्या प्रेरक लघुकथा

পাঁচশো বছর পুরনো অঘোরী
Featured

গিরনারে পাঁচশো বছর পুরনো অঘোরী পাওয়া গেছে, এমনি তো আমাদের এখানে অনেক গিরি রয়েছে তবে মূলটি দুটি মাত্র। প্রথম হিমগীর এবং দ্বিতীয় গিরনার। একটি পাহাড়ের রূপ, তবে দ্বিতীয় জমির রূপ নয়…! পুরুষ ও স্ত্রীর এই রূপ নদী নালা ভীম হ'ল দুর্দান্ত গরুর তীব্র তপস্যা করার জায়গা। এমন কোনো গুহা খুঁজে পাওয়া যাবে না যেখানে মমির মতো দেখতে সাধু তপস্যা করে নি।

பிரம்மாவைப் பற்றி அதிகம் அறியப்படாத சில உண்மைகள்
Featured

இந்த கதை மகாபாரதம் மற்றும் பிரம்ம புராணத்தை அடிப்படையாகக் கொண்டது .

गणेश चतुर्थी आरती पॉकेटबुक
Featured

हे पुस्तक नेहमीच बरोबर ठेवा ह्यांत सर्व लोकप्रिय गणपती, गौरी तसेच शंकर ह्यांच्या आरती आहेत.

வானர கீதை
Featured

பராசர சம்ஹிதையிலிருந்து அனுமனின் துதி :

संताच्या जीवनातील प्रेरक प्रसंग -भाग पहिला
Featured

जीवनाचा मार्ग सुकर करणाऱ्या प्रेरक लघुकथा

சிவபெருமான் ஏன் விநாயகரின் தலையை யானைக்கு மாற்றினார்?
Featured

விநாயகரின் தலை எவ்வாறு யானைக்கு மாற்றப்பட்டது என்பதை இதில் காண்போம்.

ஹனுமன் ஜெயந்தி
Featured

ஹனுமன் ஜெயந்தி ஏன் ஒவ்வொரு வருடமும் இரண்டு முறை கொண்டாடப்படுகிறது என்பதைப் பற்றி இங்கு காண்போம்.

ஒட்டகம் எப்படி அனுமனின் வாகனமாக மாறியது
Featured

ஒட்டகம் எவ்வாறு அனுமனின் வாகனமாக மாறியது என்பதை இங்கு காண்போம்.

महाभारत सत्य की मिथ्य?
Featured

महाभारताचा हिंदू धर्माशी सखोल संबंध आहे आणि आधुनिक हिंदूंवर आणि त्यांच्या सांस्कृतिक परंपरेवर त्याचा प्रचंड प्रभाव आहे. भारतातील बरेच लोक महाभारताला वास्तविक घटित घटनांची एक मालिका समजतात. काही भारतीय या अगम्य महाकाव्यातून घडलेल्या घटनांची इतिहासात नोंद केली आहे. हे महाकाव्य एक ऐतिहासिक लेख समजले जाते. महाभारत हे सत्य आहे की दंतकथा हा नेहमीच एक चर्चेचा विषय राहिला आहे. आपण याची पाळेमुळे खोदुन काढण्याचा, शोधण्याचा प्रयत्न केला की जाणवते की महाभारत प्राचीन भारतीय इतिहासाला लाभलेली समृद्ध आणि वास्तवदर्शी माहिती आहे. महाभारताच्या सत्यता आणि दंतकथा असण्यावर लिहिलेले लेख वाचल्यास प्रत्येक गोष्टीला पुरावा आहे अश्या अनेक घटना आपल्या डोळ्यासमोर येतील. त्या घटनांचा अभ्यास करत असताना आपल्याला बहुधा मतांची एक बाजू मिळेल अशीही समजेल ज्यालेखी महाभारतातील वास्तव ही वस्तुस्थिती नाही. या चर्चेअंती इतके तर सत्य आपल्याला कळेल की महाभारत हा भारताचा एक समृद्ध आणि ज्ञानाने ओतप्रोत भरलेला भारतीय इतिहास आहे यात शंका नाही.

கல்ப விக்ரஹா
Featured

கல்ப விக்ரஹா - சிவபெருமானின் பழமையான இந்து சிலையைப் பற்றி இங்கு காண்போம்.

इच्छापूर्ती शाबरी मंत्र
Featured

इच्छापूर्ती शाबरी मंत्रांच्या एक लाखांहून अधिक ओव्या नाथांनी आणि त्यांच्या शिष्यांनी रचल्या आहेत. हे कुठेही लिखीत स्वरूपातील साहित्य नाही. गुरूशिष्य परंपरेतून दिले जाणारे हे मंत्र स्वयंसिद्ध आहेत. हे मंत्र अतिशय प्रभावी आहेत. ह्या मंत्रांचा प्रभाव तत्काळ बघता येतो. बाजारात मिळणाऱ्या पुस्तकांत सांगितले जाणारे शाबरी मंत्र हे मुळ शाबरी मंत्र नाहीत. बाजारातील पुस्तकांत जे मंत्र दिले जातात ते वास्तविक बर्भरी मंत्र आहेत. मुळ शाबरी मंत्राची बिजं या मंत्रामध्ये रोवून बर्भरी मंत्र बनवले गेले असावेत.

মালতী ও মাধব
Featured

এটি একটি অনন্য প্রেমের গল্প। ভারতের বসবাসরত মাধব এবং মালতীর উৎকট ভালোবাসা, বিচ্ছেদ এবং সামাজিক অবস্থার বর্ণনা করা হয়েছে।

চিত্রাঙ্গদা
Featured

চিত্রাঙ্গদা মহাভারতের একটি চরিত্র। কে ছিলেন এই চিত্রাঙ্গদা ?? মহাভারতের কোন চরিত্রের সাথে তিনি সম্পর্কিত? তার জীবনী কী? চিত্রাঙ্গদার নামটি আপনি কোথায় শুনেছেন, এ নিয়ে একটু বিচার করুন …!

पांच सौ वर्ष का अघोरी
Featured

गिरनार में मिला पांच सौ वर्ष का अघोरी हमारे,यहा तो कई गिरी है मगर मुख्य गिरी तो दो ही हैं। पहला हिमगिर और दूसरा गिरनार एक पहाडोंका रुप है तो दुसरा भूमग ना रूप…! नर नारी का यह रूप नदी नालों भिमा को महान गाओं का गहन तपस्या स्थल है। कोई गुफा ऐसी नहीं मिलेगी जहा मम्मी के जैसे दिखने वाले मनस्वी नायाब साधू सन्यासी नहीं तपा हो।

पड़ की नक्षी में सतीत्व परीक्षा

राजस्थानी लोक चित्रांकन का एक प्रमुख प्रकार है पड़ चित्राकन इस चित्राकन में मुख्यत: कपडे पर लोकदेवता पाबूजी और देवनारायण की जीवन लीला चित्रित की हुई मिलती है। इन पेडों के भोपे गाव-गांव इस फैलाकर रात्रि को विशिष्ट गाथा गायकी में पड वाचन करते हैं।

एकलिंगजी

सबसे बड़ी धजा वाले मन्दिरों पर धजा चढाने का भी पूरा संस्कार है। यदि इन धजाओं का ही अध्ययन किया जाय तो ऐसी बहुत सी सामग्री हाथ लग सकती है जो धजा परम्परा और उनके जुड़े देवता का रोचक इतिहास ही प्रस्तुत कर दे। धजाओं के विविध रंग, उनके आकार- प्रकार उनकी साज-सज्जा, उन पर लगे धगे विविध कलात्मक चित्र प्रतीक बड़ा रोचक दास्तान देते है।

இராமாயணம் மற்றும் மகாபாரதம்
Featured

இராமாயணம் & மகாபாரதம் ஒரே ஒரு முறை மட்டும் ஒன்றுடன் ஒன்று இணையவில்லை. அவற்றைப் பற்றி இங்கு காண்போம்.

Yaksha Prasnam
Featured

The "Yaksha Prasna", literally translated, means "Questions of the Yaksha", were posed by a Yaksha in the forest to Yudhistira.

கிருஷ்ணர் தனது வாக்குறுதியை மீறிவிட்டார்
Featured

மகாபாரதத்தில் கிருஷ்ணர் தனது வாக்குறுதியை எவ்வாறு மீறிவிட்டார் என்பதை இங்கு காண்போம்.

भारत के जनप्रिय सम्राट

शासन एक लिप्सा भी है और शासन ईश्वरीय इच्छा से अन्याय, शोषण, कुपोषण, अधर्म और बुराइयों को वैयक्तिक और राष्ट्रीय जीवन से उपेक्षित करने तथा न्याय, विधि, व्यवस्था धर्म के चराचर मूल्यों की सुदृढ़ स्थापना के उद्देश्यों की प्राप्ति का एक पवित्र साधन भी है। शासन, जब निरपेक्ष, तटस्थ ईश्वरीय प्रेरणा की अनुभूति में स्वीकार किया जाता है, तब यह एक आत्मीय भजन बनकर समय के आन्दोलनों को सुसंस्कृत करता है। 'भारत के जनप्रिय सम्राट' में पुरूरवा से छत्रसाल तक के जनप्रिय राजाओं के कार्यक्रमों को एक सूक्ष्म दृष्टि से देखा गया है। सारे सम्राटों का आकलन करने से पता चल ही जाता है-ये जनप्रिय क्यों रहे? ये अप्रिय क्यों नहीं हुए? साहित्य, कला, संस्कृति, धर्म, सेवा, उद्योग-कला-कौशल, धर्म, सेवा, शौर्य के गुणों का संगठन जिस सम्राट ने जीवन में किया, वह जनप्रिय हुआ और जिसने शासन को अपनी कुप्रवृत्तियों, अहं और वासना की पूर्ति का संसाधन बनाया, वह विनष्ट हो गया। दूसरे शब्दों में आत्मशक्ति से जिस राजा ने इन्द्रियों पर शासन किया, वह जनप्रिय बना और जिस राजा ने इन्द्रियों को स्वच्छाचारी बनाया, वह अप्रिय हो गया। सम्राट होना और जनप्रिय होना- एक साथ संभव नहीं होता। अनुशासन राजस्व और प्राशासन के विन्दुओं पर सम्राट कैसे जनप्रिय रह सकता है? पर, ऐसे सम्राट हुए हैं, जो जनप्रिय रहे हैं। 'सम्राट' पद साधना की एक सफलता है। सम्राट साम्राज्य में जनहित का साधन है। सम्राट के इन्हीं विन्दुओं को सामने रखकर 'भारत के जनप्रिय सम्राट' की इस लघु खोज में पुरूरवा से छत्रसाल-वेदों से चलकर हाल की सदी तक के सम्राटों के जनप्रिय प्रतिनिधि राजाओं के जीवन-दर्शन का स्पर्श मैंने किया है। लक्ष्य है अपने जीवन के रेखाचित्र को भारत के जनप्रिय सम्राटों के लोकप्रियता के रंगों से रंगकर जनप्रिय आज के लोकतंत्र में कोई भी हो सकता है। कौन है, जो जनप्रियता का रंग नहीं चाहता? जनप्रिय होना है तो 'भारत के जनप्रिय सम्राटों' की जनप्रियता के रंगों को समझना होगा। इसी से जनप्रियता की वर्तमान चुनौतियों को सामने रखकर 'भारत के जनप्रिय सम्राट' प्रस्तुत कर रहा हूँ।

अश्वत्थामा

अश्वत्थामा बलि: व्यासो हनूमांश्च विभीषण:। कृप: परशुरामश्च सप्तएतै चिरजीविन:॥ सप्तैतान् संस्मरेन्नित्यं मार्कण्डेयमथाष्टमम्। जीवेद्वर्षशतं सोपि सर्वव्याधिविवर्जित॥

கிருஷ்ணர் மற்றும் அர்ஜுனனின் உரையாடல்
Featured

மகாபாரதத்தில் கிருஷ்ணர் மற்றும் அர்ஜுனனின் உரையாடலை இங்கு காண்போம்.

துரியோதனனின் கூறப்படாத கதை

கலியுகத்தில் மனிதர்கள் அனுபவிக்கும் ஏழு பாவங்களையும் பிரதிநிதித்துவப்படுத்தும் அரக்கன் காளியின் அவதாரமே துரியோதனன் .

சக்ரவ்யாவின் கதை
Featured

மகாபாரதத்தில், சக்ரவ்யாவின் கூறப்படாத கதையை இங்கு காண்போம்.

கர்ணன் மீதான தனது அன்பைப் பற்றி திரௌபதியின் வாக்குமூலம்

திரௌபதி, கர்ணன் மீது தான் கொண்டுள்ள அன்பைப் பற்றி எவ்வாறு ஒப்புக்கொள்கிறார் என்பதை இக்கதையில் காண்போம்.