दिव्यात्माओं का एक मेला

सन् १९८२ में दीवाली की घनी अधेरी डरावनी रात में लोकदेवता कल्लाजी ने अपने सेवक सरजुदासजी के शरीर में अवतरित हो मुझे चित्तौड़ के किले पर लगने वाला भूतों का मेला दिखाया तब मैंने अपने को अहोभाग्यशाली माना कि मै पहला जीवधारी था, जिसने उस अलौकिक, अद्भुत एवं अकल्पनीय मेले को अपनी आँखों से देखा।

Please join our telegram group for more such stories and updates.telegram channel

Books related to दिव्यात्माओं का एक मेला


इल्वला और वातापी
टोबा टेक सिंग
खोल दो
सुह्दभेद
साधू और चुहा
गिजरू का अमराक
विचित्र वृक्ष
पारसमणी
पटेल का फैसला
बू
गिरनार का रहस्य