सात दिनों का पहरा

कुरु वंश के उज्ज्वल नाम को कलंकित करने वाले इस अहंकारी राजा की, आज से सात रोज के अंदर, सर्पराज तक्षक के काटने से मृत्यु हो जायेगी।" इस भयानक शाप के शब्द शृंगी के मुख से निकले ही थे कि उनके पिता ने विचलित होकर अपनी समाधि तोड़ दी और भय से अपने पुत्र के मुंह की ओर देखने लगे। उनके बेटे ने क्रोध में आकर जो कुछ कह डाला था उससे मानों उन पर वज्रपात-सा हुआ। This is a story of King Parikshit and the curse he got from rishi shrunga.

ContributorThe primary editor for all the books.
Please join our telegram group for more such stories and updates.

Books related to सात दिनों का पहरा


सात दिनों का पहरा